पढो परदेश योजना – अल्पसंख्यक छात्रों के लिए ब्याजमुक्त शिक्षा ऋण

पढो परदेश योजना – गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों को उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्त करने के लिए सरकार कई प्रकार की योजनाए चला रही है जिसमे से एक है पढो परदेश योजना। यह योजना खास तौर पर गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों के लिए शरू की गई है। पढो परदेश योजना को शुरु करने का मुख्य उद्देश्य केवल गरीब परिवार के विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना। जिससे वह अपना अच्छा भविष्य बना सके।

क्या है? पढ़ो परदेश योजना का मुख्य उद्देश्य

इस सरकारी योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब परिवार के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्रदान करना है। जिसके माध्यम से वह अपने सपने साकार कर सके। इस योजना के अंतर्गत सरकार गरीब, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा के लिए बिना ब्याज के ऋण प्रदान करेगी। इसका मतलब इस योजना में शिक्षा ऋण पर 100 प्रतिशत सब्सिडी दी जाएगी।

क्या है? पढ़ो परदेश योजना के लाभ

  • इस योजना के अंतर्गत विद्यार्थि कई प्रकार के लाभ प्राप्त कर सकते है।
  • इस योजना के अंतर्गत विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने हेतु सरकार द्वारा बिना ब्याज के शिक्षा ऋण प्रदान किया जायेगा।
  • विधार्थी के कोर्स और उसकी शिक्षा पूरी होने तक प्रदान की गई राशी पर किसी प्रकार कर ब्याज नहीं लगेगा।
  • जिन विद्यार्थियों की आधी शिक्षा देश में और बाकि विदेश पूरी होती है तो इस दोरान ऋण की राशी पर किसी प्रकार का ब्याज नहीं लगेगा।
  • सरकार द्वारा प्रदान की गई इस सहायता राशी पर 100 प्रतिशत सब्सिडी दी जाएगी।

क्या है? पढो परदेश योजना के लिए योग्यता

  • विधार्थी का मूल रूप से भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने लिए विद्यार्थियों को सरकार द्वारा तय की गई योग्यता को पूरा करना होगा। तभी वह इस योजना का लाभ ले सकेंगे।
  • केवल अल्पसंख्यक श्रेणी के छात्र ही आवेदन कर सकते है चाहे वह किसी भी धर्म के हो।
  • केवल उन विधार्थीयो को इस योजना का लाभ मिलेगा। जो किसी मान्यता प्राप्त शैक्षणिक संस्थान से शिक्षा प्राप्त कर रहे हों। यदि आवेदक विदेश से शिक्षा प्राप्त कर रहा हो, तो संस्थान का मान्यता प्राप्त होना अनिवार्य है।
  • आवेदक के परिवार की सालाना आय 6 लाख या उससे कम हो।
  • उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को ही इस योजना का लाभ का लिम पाएगा। जैसे कि एमफिल, पीएचडी, एमबीए आदि।
  • जिन विधार्थियो के शिक्षा ऋण 20 लाख से कम है उन्ही को ऋण प्रदान किया जाएगा।

किन दस्तावेजो जरुरत पड़ेगी? पढो परदेश योजना के आवेदन हेतु 

  • इस योजना के आवेदन के लिए आवेदक के पास निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।
  • आवेदक का आधार कार्ड होना आवश्यक है।
  • इसके साथ ही आवेदक का बैंक में खाता होना भी अनिवार्य है।
  • आवेदक द्वारा किये गए कोर्स तथा यूनिवर्सिटी का प्रवेश पत्र होना आवश्यक है। इसके अलावा यूनिवर्सिटी से प्राप्त दस्तावेज आवेदक के पास होने चाहिए।
  • आवेदक के पास परिवार का आय प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है।
  • डेवेलपमेंट ऑफ़ माइनॉरिटी कम्युनिटी से मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है।

पढो परदेश योजना के लिए कैसे आवेदन करे?

  • यदि आप इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है तो इसके लिए आपको सबसे पहले किसी भी IBA बैंकिंग कानून समिति द्वारा मान्यता प्राप्त बैंक में जाकर एजुकेशन क्रेडिट डॉक्यूमेंट आवेदन प्राप्त करना होगा।
  • आवेदन प्राप्त करने के बाद आपको आवेदन पत्र बड़ी सावधानीपूर्वक भरना होगा। इसके साथ ही सभी आवश्यक दस्तावेज संलग्न करके जमा करवाना होगा।
  • बैंक के प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपका आवेदन ‘मिनिस्ट्री ऑफ़ वेलफेयर’ को भेजा जाएगा। जिसके बाद आवेदन की जाँच की जाएगी। जिससे पता लगाना संभव होगा कि आप इस योजना के योग्य है या नहीं।

The post पढो परदेश योजना – अल्पसंख्यक छात्रों के लिए ब्याजमुक्त शिक्षा ऋण appeared first on KhojGuru.